top


Zikr karta hai dil subha sham tera

Zikr karta hai dil subha sham tera
Girte ha aansu banta ha naam tera
Kisi aur ko kyu dekhe ye ankhe
Jb dil pe likha ha sirf naam tera

ज़िक्र करता है दिल सुबह शाम तेरा
गिरते है आंसू बनता है नाम तेरा
किसी और को क्यों देखे ये आंखे
जब दिल पे लिखा है सिर्फ नाम तेरा

Aap ke tabassum ki kya taaref karun

Aap ke tabassum ki kya taaref karun
Jisne bhi dekha jaan se gaya
Kamaal ka hunar paya hai
Dushman bhi dil haar baiththe hai ..

आप के तबस्सुम की क्या तारिफ़ करूँ
जिसने भी देखा जान से गया
कमाल का हुनर पाया है
दुश्मन भी दिल हार बैठते है ..

Aapki aankhon ka jadu aisa chaya

Aapki aankhon ka jadu aisa chaya
Apna hosh maine gawaya
Betab dil ki tamanna hai
Koi to ho ek hamsaya

आपकी आँखों का जादू ऐसा छाया
अपना होश मैंने गवाया
बेताब दिल की तमन्ना है
कोई तो हो एक हमसाया

Wo kaise log the ya rab

Wo kaise log the ya rab
Jinhone tujh ko paa liya
Hame to ho gaya dushwar
Ek insan ka milna ..

वो कैसे लोग थे या रब
जिन्होने तुझ को पा लिया
हमे तो हो गया दुश्वार
एक इंसान का मिलना ..

Ladkiya Exam me 8-10 pen le kar jaati hai

Ladkiya Exam me 8-10 pen le kar jaati hai
.
Aur agar ek pen mang lo to muh aise banati hai
Jaise ek Kidni manng li ho … 🙂

लडकिया एग्जाम मे 8-10 पेन लेकर जाती हैं,
.
और अगर एक पेन माँग लो तो मुँह ऐसे बनाती हैं
जैसे एक किडनी माँग ली हो.. 🙂

Mujhe Nafrat hai logo

Mujhe Nafrat hai un logo se jo
Mobile pakadte hi kehte hai
Zara mobile ka pattern lock batana
Are sasure batana hi hota to lagate kyu?  ??

मुझे नफरत है उन लोगो से जो
मोबाइल फोन पकडते ही कहते है।।
जरा मोबाइल का पैटर्न लाक बताना।।
अरे ससुरे बताना ही होता तो लगाते क्यो? ??

kis kalam se baat likhun dil ki use

kis kalam se baat likhun dil ki use
wo nasamajh har kisi ko
Mera khat padh ke suna deti hai …

किस कलम से बात लिखूं दिल की उसे
वो नासमझ हर किसी को
मेरा खत पढ़ के सुना देती है …

Bhool na paoge kabhi hamari mohabbat ko

Bhool na paoge kabhi hamari mohabbat ko zindagi bhar
Kyuki hamari mohabbat me gareebi zaroor hogi
Magar bewafai nahi

भूल ना पाओगे कभी हमारी मोहब्बत को ज़िंदगी भर
क्यूकी हमारी मोहब्बत मे ग़रीबी ज़रूर होगी
मगर बेवफ़ाई नही

Wo kehta tha tumhari muskurahat bahut haseen hai

Wo kehta tha tumhari muskurahat bahut haseen hai
Kehta to wo theek tha isliye shayad
Wo apne sath meri muskurahat bhi le gaya …

वो कहता था तुम्हारी मुस्कुराहट बहुत हसीन है
कहता तो वो ठीक था इसलिए शायद
वो अपने साथ मेरी मुस्कुराहट भी ले गया …

Tum bhi ache ho tumhari wafa bhi achi hai

Tum bhi ache ho tumhari wafa bhi achi hai
Bure to hum hai jiska dil bhi dhadakta hai
To bus tumhare hi intizar me …

तुम भी अच्छे हो तुम्हारी वफ़ा भी अच्छी है
बुरे तो हम है जिसका दिल भी धड़कता है
तो बस तुम्हारे ही इंतिज़ार मे …