Hathon mein uska hath tha

Hathon mein uska hath tha

Hathon mein uska hath tha
Dil mein uski tasveer
Kiye wade the sath zindagi bitane ke
Hathon ki lakiro ko kuch aur manzoor tha

हाथों में उसका हाथ था
दिल में उसकी तस्वीर
किये वादे थे साथ ज़िंदगी बिताने के
हाथो की लकीरो को कुछ और मंज़ूर था

Mere jeene ka maksad thi tu

Mere jeene ka maksad thi tu
Mere zinda hone ahsas thi tu
Tu thi to main tha
Tere hone ka ahsas hi mere liye kafi tha
Tu nahi to dil se dhadkan chali gayi
Tu nahi mere jeene ki wajah chali gayi

मेरे जीने का मकसद थी तू
मेरे ज़िंदा होने अहसास थी तू
तू थी तो मैं था
तेरे होने का अहसास ही मेरे लिए काफ़ी था
तू नही तो दिल से धड़कन चली गयी
तू नही मेरे जीने की वजह चली गयी

Bheed bahut hai duniya ki

Bheed bahut hai duniya ki
Par aashiq mere jaise khaas nahi hote
Dhoonda to hota ek dafa phir hamko
Zindagi ka dastoor hai
Mohabbat karne wale hamesha pass nahi hote

भीड़ बहुत है दुनिया की
पर आशिक़ हमारे जैसे ख़ास नही होते
ढुंडा तो होता एक दफ़ा फिर हमको
ज़िंदगी का दस्तूर है
मोहब्बत करने वाले हमेशा पास नही होते

Roz roz nahi mil pate ho to kya

Roz roz nahi mil pate ho to kya
Kabhi kabhi mila karo
Mil kar yaad ayein hamesha ye lamhe
kuch is tarha se mila karo

रोज़ रोज़ नही मिल पाते हो तो क्या
कभी कभी मिला करो
मिल कर याद आयें हमेशा ये लम्हे
कुछ इस तरहा से मिला करो

Ab wo mujhse door hai to kya hua

Ab wo mujhse door hai to kya hua
Yaad nahi karte mujhe to kya hua
Ham ro lenge kuch pal is dard mein
Ab ham uske dil mein nahi to kya hua

अब वो मुझसे दूर है तो क्या हुआ
याद नही करते मुझे तो क्या हुआ
हम रो लेंगे कुछ पल इस दर्द में
अब हम उसके दिल में नही तो क्या हुआ

Kareeb hokar toot jate hain kuch sapne

Kareeb hokar toot jate hain kuch sapne
Is duniya me koi chah rakhna hi fizool hai
Chahat ka ilm ho jaye jab jag ko
Us chahat se door karna iska usool hai

करीब होकर टूट जाते हैं कुछ सपने
इस दुनिया मे कोई चाह रखना ही फ़िज़ूल है
चाहत का इल्म हो जाए जब जग को
उस चाहत से दूर करना इसका उसूल है

Meri aankhon ki gurbat ka sahara ho bhi sakta tha

Meri aankhon ki gurbat ka sahara ho bhi sakta tha
Tera dupatta zara aur kinare ho bhi sakta tha
Tu jaanti thi meri saasein chand si hain
Tera mere aur pass ana ho bhi sakta tha

मेरी आँखों की ग़ुरबत का सहारा हो भी सकता था
तेरा दुपट्टा ज़रा और किनारे हो भी सकता था
तू जानती थी मेरी सासें चाँद सी हैं
तेरा मेरे और पास आना हो भी सकता था

Agar hai teri khushi shaamil to

Agar hai teri khushi shaamil to
Mat aa tu laut kar
Ki teri khushiyan mujhe aziz hain
Agar nahi hai ye maamla mohabbat ka to
Dekh bhi mat palat kar
Ki ye dil umeed ka sadiyon se mareez hai

अगर है तेरी खुशी शामिल तो
मत आ तू लौट कर
की तेरी खुशियाँ मुझे अज़ीज़ हैं
अगर नही है ये मामला मोहब्बत का तो
देख भी मत पलट कर
की ये दिल उमीद का सदियों से मरीज़ है

Jaane na doongi hame kaha karti thi

Jaane na doongi hame kaha karti thi
Phir kya hua sabab jo juda hui hamse
Kya khata hui jo roothe wo hamse
Wo aankhon se dil jalaya karti thi
Ab kyun aankhein nahi milati wo hamse
Nadaan thi bahut galtiyan kiya karti thi
Jaane kyun daga kar gayi wo hamse
Ishq wo hamse urooj e asmaan kiya karti thi

जाने ना दूँगी हमें कहा करती थी
फिर क्या हुआ सबब जो जुदा हुई हमसे
क्या ख़ाता हुई जो रूठे वो हमसे
वो आँखों से दिल जलाया करती थी
अब क्यूँ आँखें नही मिलती वो हमसे
नादान थी बहुत ग़लतियाँ किया करती थी
जाने क्यूँ दागा कर गयी वो हमसे
इश्क़ वो हमसे उरूज़ ए आसमान किया करती थी

Kahni thi kuch baatein bin alfaazon wali

Kahni thi kuch baatein bin alfaazon wali
Par tum hi na samjho to phir kya
Kahne ko to lafzon me bhi kah dete
Par wo hamse hoga kahan

कहनी थी कुछ बातें बिन अल्फाज़ों वाली
पर तुम ही ना समझो तो फिर क्या
कहने को तो लफ़्ज़ों मे भी कह देते
पर वो हमसे होगा कहाँ