Yaad teri jab aati hai

Yaad teri jab aati hai ..!
Kya batayein kya haal hota hai
Ek bechaini si dil pe chaati hai
Ek tujhe hi ye ehsas nahi hota Jana
Ki ye dil lut jane ki nishani hai ..

याद तेरी जब आती है
क्या बताएं क्या हाल होता है
एक बेचैनी सी दिल पे छाती है
एक तुझे ही ये एहसास नहीं होता जाना
की ये दिल लूट जाने की निशानी है

Aap ke tabassum ki kya taaref karun

Aap ke tabassum ki kya taaref karun
Jisne bhi dekha jaan se gaya
Kamaal ka hunar paya hai
Dushman bhi dil haar baiththe hai ..

आप के तबस्सुम की क्या तारिफ़ करूँ
जिसने भी देखा जान से गया
कमाल का हुनर पाया है
दुश्मन भी दिल हार बैठते है ..