Main bada ho ke Pailet banuga

Bachpan me- Main bada ho ke Pailat banuga
Phir, Vaigyanik banuga, Astronautat banuga
Finally –  Bhai sahab ye SBI me clark post k form
kis counter pe jama ho rahe hai …

बचपन मे- मैं बड़ा हो के पायलट बनउगा …

फिर, वैज्ञानिक बनउगा, आस्त्रॉनौटट बनउगा…

फाइनली.. भाई साहब ये sbi मे क्लार्क पोस्ट क फॉर्म

किस काउंटर पे जमा हो रहे है …

zaroorate tod deti ha

zaroorate tod deti ha insan ke ghamand ko
na hoti majboori to har banda khuda hota…

ज़रूरते तोड़ देती है इंसान के घमंड को
ना होती मजबूरी तो हर बंदा खुदा होता…

Bachpan Ke wo din bhi kya khoob the

Bachpan Ke wo din bhi kya khoob the
Na dosti ka matlab tha
Na matlab ki dosti …

बचपन के वो दिन भी क्या खूब थे
ना दोस्ती का मतलब था
ना मतलब की दोस्ती …

Azeez bhi wo ha naseeb bhi

Azeez bhi wo hai naseeb bhi wo ha….

duniya ki bheer me kareeb bhi wo ha…..

unki duao se chalti ha zindagi….

kyuki….

Wo khuda ki banayi sundar si moorat hai koi ….

अज़ीज़ भी वो है नसीब भी वो है….

दुनिया की भीड़ मे करीब भी वो है…..

उनकी दुवाओ से चलती है ज़िंदगी….

क्यूकी….

वो खुदा की बनाई सुंदर सी मूरत है कोई

Rishta wo nahi hota jo duniya

Rishta wo nahi hota jo duniya ko dikhaya jata ha…..

Rishta wo hota ha jise dil se nibhaya jata ha….

Apna kehne se koi apna nahi hota….

Apna wo hota ha jise dil se apnaya jata hai ….

रिश्ता वो नही होता जो दुनिया को दिखाया जाता है…..

रिश्ता वो होता है जिसे दिल से निभाया जाता है ….

अपना कहने से कोई अपना नही होता….

अपना वो होता है जिसे दिल से अपनाया जाता है ….

kis tarah karu khud ko tere pyar ke kabil

किस तरह करूँ “खुद को तेरे ” प्यार के काबिल…
मै “आदतें बदलती हूँ, तो तू “शर्तें बदल देता है.

kis tarah karu khud ko tere pyar ke kabil….

main aadate badalti hu tu to sharte badal deta ha….

Bahut thak sa gaya hu

Bahut thak sa gaya hu

Bahut thak sa gaya hu
Khud ko sabit karte karte
Mere tareeke galat ho sakte han
Magar meri mohabbat nahi …

बहुत तक सा गया हूँ
खुद को साबित करते करते
मेरे तरीके ग़लत हो सकते हैं
मगर मेरी मोहब्बत नही …

Dosti ke baad Mohabbat ho sakti ha

Dosti ke baad Mohabbat ho sakti hai
Mohabbat ke baad dosti nahi ho sakti kyuki
Dawa maut se pehle asar karti hai
Maut ke baat nahi …

दोस्ती के बाद मोहब्बत हो सकती है
मोहब्बत के बाद दोस्ती नही हो सकती क्यूकी
दवा मौत से पहले असर करती है
मौत के बात नही …